किसानों-बागवानों पर कोरोना के बाद बरपा ओलावृष्टि का कहर, फसलों को भारी नुकसान

0
81

जिला कुल्लू की सैंज घाटी में बुधवार दोपहर को हुई तेज आंधी तथा भारी बारिश ने किसानों-बागवानों को काफी नुकसान पहुंचाया। जहाँ पहले तेज हवाओं की वजह से सेब, खुमानी, प्लम, नाशपाती की फसलों के बगीचो में तबाही हुई। वहीं बची हुई फसल के लिए उसके बाद भारी ओलावृष्टि हुई और फ़सल तबाह हो गई।

सैंज घाटी के ऊपरी क्षेत्रों में हुई ओलावृष्टि से किसानों का लाखों का नुकसान हुआ है। रैला पंचायत के कुंडर-मझाण, मझारना, पाशी, भूपन, शारण, घाटसेरी, मंझग्रां, शरण, रैला, मोभा शूलगा, जीबा, खडोहा, ढगवचा, रूपेण, सुचैहण, बनोगी तथा देवगढ़ गोही इत्यादि पंचायतों में भारी ओलावृष्टि से काफी नुकसान हुआ।

बता दें कि इन दिनों किसानों ने खेतों में मटर की फसल तैयार की है और टमाटर की फसल की तैयारी चली है। वहीं बगीचों में सेब, प्लम, खुमानी इत्यादि को भी ओलावृष्टि होने से काफी नुकसान हुआ है। ऊधर रैला 2 पंचायत के प्रधान जोगिन्द्र सेन, उपप्रधान भगत राम ठाकुर  बार्ड मेंम्बर दुर्गा धामी, नारायण सिंह, रवि चौहान इत्यादि ने प्रशासन से मांग की है कि किसानों व बागवानों को ओलावृष्टि से हुए नुकसान की भरपाई के लिए उचित मुआवजा दिया जाए।

वहीं मौसम विभाग के अनुसार कुल्लू जिला में 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से आंधी चलने सहित ओलावृष्टि भारी बारिश को लेकर बुधवार को ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया था। 15 मई तक प्रदेश के ऊंचे क्षेत्रों में बर्फबारी व निचले क्षेत्रों में बारिश होनेे की भरपूर सम्भावना है।

इस सम्बंध में सैंज तहसील के नायब तहसीलदार बालक राम शर्मा ने बताया है कि सैंज घाटी की विभिन जगहों पर ओलावृष्टि होने की सूचना मिली है और किसानों व बागवानों का काफी नुकसान भी हुआ है। हल्का पटवारी को नुकसान की रिपोर्ट तैयार करने के आदेश दिए गए है। रिपोर्ट तैयार करके उच्च अधिकारियों के लिए भेजी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here