कोरोना की दूसरी लहर से निपटने को पुख्ता है मंडी प्रशासन की तैयारी

0
77
उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर से निपटने को मंडी जिला प्रशासन की पुख्ता तैयारी है। उन्होंने कहा कि जिला में अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन युक्त बिस्तरों की सुविधा उपलब्ध है। जिला में अभी रोजाना कोरोना संक्रमण के औसतन 144 मामले आ रहे हैं। प्रशासन ने प्रति दिन 500 मरीजों के लिए क्षमता विकसित कर ली है। इस क्षमता को प्रतिदिन एक हजार मरीज तक बढ़ाने के लिए कार्ययोजना तैयार है।

  वे जिला में कोरोना की स्थिति और इससे निपटने को लेकर जिला प्रशासन की तैयारी से अवगत कराने के लिए आयोजित प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में जिला में दो डैडीकेटिड कोविड केयर स्वास्थ्य केंद्र – बीबीएमबी सुंदरनगर और सिविल अस्पताल रत्ती एक्टिवेट किए गए हैं। इसके अलावा श्री लाल बहादुर शास्त्री राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल नेरचौक डैडीकेटिड कोविड अस्पताल के तौर पर काम कर रहा है। वर्मतान में बीबीएमबी सुंदरनगर में 32, रत्ती में 17 और नेरचौक अस्पताल में 7 कोरोना मरीज उपचाराधीन हैं।

उन्होंने एक-दो दिनों के भीतर सुंदरनगर में नवनिर्मित मातृ-शिशु अस्पताल को भी डैडीकेटिड कोविड केयर स्वास्थ्य केंद्र के तौर पर एक्टिवेट कर दिया जाएगा। इसके अलावा समर्पित कोविड केयर केंद्रों को भी जरूरत के अनुसार एक्टिवेट किया जा रहा है। वर्तमान में कोविड केयर केंद्र सदयाणा में 22 मरीज आइसोलेशन में हैं।

उपायुक्त ने बताया कि वर्तमान में जिला में 198 ग्राम पंचायतों में कोरोना के एक्टिव मामले हैं। पंचायती राज संस्थानों के जनप्रतिनिधियों की मदद से गांवों में कोरोना संक्रमितों की पहचान, सैंपलिंग-टैस्टिंग व होम आइसोलेशन में मदद और कोविड प्रोटोकॉल की अनुपालना तय बनाई जा रही है। प्रधानों को कोरोना निगरानी अधिकारी बना कर शक्तियां प्रदान की गई हैं। सभी एसडीएम ने संबंधित क्षेत्रों में प्रधानों से बैठक कर उन्हें उनके दायित्वों से अवगत करवाया है। वहीं शहरी निकायों में पार्षदों की मदद से कोरोना प्रोटोकॉल का अनुपालन तय बनाया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here