नशा निवारण के लिए मंडी में शुरू होगा संयम कार्यक्रम

0
83

अतिरिक्त उपायुक्त जतिन लाल ने कहा कि मंडी जिला में नशामुक्त भारत अभियान के तहत नशा निवारण गतिविधियों को और गति देने के लिए ‘संयम कार्यक्रम’ आरंभ किया जाएगा। इसके तहत पंचायत स्तर पर नशा निवारण समितियों का गठन होगा। इन समितियों में पंचायत प्रतिनिधियों के अतिरिक्त महिला मंडल, युवक मंडल, आगंनवाड़ी-आशावर्कर व समाज सेवियों को शामिल किया जाएगा।

अतिरिक्त उपायुक्त नशामुक्त भारत अभियान के कार्यान्वयन की समीक्षा के लिए वीरवार को उपायुक्त कार्यालय मंडी में आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

 उन्होंने कहा कि संयम कार्यक्रम के तहत एक हैल्पलाइन नंबर भी जारी किया जाएगा। इसके माध्यम से जिला में नशे से पीड़ित व्यक्तियों की काउंसलिंग एवं उनके परिवारजनों की समस्याओं के समाधान व सहायता का प्रयास किया जाएगा। जिला रेडक्रास सोसायटी के सचिव को जिला में एकीकृत पुनर्वास केन्द्र शुरू करने के लिए शीघ्र प्रक्रिया पूरी करने के निर्देश दिए।

अतिरिक्त उपायुक्त ने नशामुक्त भारत अभियान में पंचायतों की भागीदार सुनिश्चित करने को कहा। जिला पंचायत अधिकारी को निर्देश दिए कि युवाओं को नशे जैसी बुराई से दूर रखने के लिए पंचायत स्तर जागरूकता गतिविधियां आयोजित करवाएं। पंचायतों में रिडिंग रूम, वाॅलीवाल, बास्केट वाॅल जैसे खेल व जिम आदि सुविधाओं के प्रावधान पर जोर दें ताकि युवा इन गतिविधियों मे शामिल हों और अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखने को प्रेरित हों।  

उन्होंने शिक्षा विभाग को बच्चों को डिजिटल माध्यमों से जोड़ कर नैतिक शिक्षा पर बल देने को कहा।  बेटी बचाओ-बेटी पढाओ, शिष्टाचार, नैतिक मूल्य व नशामुक्त आदि के लिए प्रोत्साहित करने के प्रयास करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोविड़-19 के चलते अभिभावक व अध्यापकों की बैठकों का आॅनलाईन आयोजन करें, ताकि बच्चों को मादक द्रव्यों की लत से छुडाने के लिए चितंन व उनके सुझावों को जाना व कार्यान्वित किया जा सके।

उन्होंने महिला एवं बाल विकास और स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए कि आशावर्कर व आंगनबाड़ी कार्यकता अपने-अपने क्षेत्रों में युवाओं को नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक करना और सप्ताहिक तौर पर नशा निवारण से जुड़ी कोई न कोई गतिविधि का आयोजन करना सुनिश्चित करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here