व्यापारियों को होने वाली दिक्कतें और उनके समाधान, जोगिन्दरनगर व्यापार मंडल के लिए कुछ सुझाव

0
79

लवनीत सकलानी। नमस्कार मेरा नाम लवनीत सकलानी है सबसे पहले मैं इस मंच का धन्यवाद करना चाहूंगा कि मुझे अपनी बात रखने का मौका मिला काफी समय से जोगिंदर नगर व्यापार मंडल को गठित करने की कोशिश की जा रही है आप सभी को बताना चाहूंगा आज से लगभग 2 महीने पहले मैंने लोकतांत्रिक तरीके से व्यापार मंडल के गठन के लिए काम शुरू किया था और अब 3 हफ्ते से यह प्रक्रिया चल भी रही है और लगातार अखबारों में यह सब आ रहा है जिसके कारण जोगिंदर नगर में व्यापारियों के बीच नकारात्मकता का माहौल पैदा हो गया है। एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते मैं कुछ अपनी तरफ से व्यापार मंडल के विकास के लिए बात रखना चाहूंगा मुझे आशा है आप जरूर इसे पूरा पड़ेंगे : –  

कुछ मुख्य कारण जिससे यह दिक्कतें व्यापारियों को आ रही है मैं आपके साथ साझा करना चाहूंगा : 

1) जोगिंदर नगर में कपड़े का ग्राहक जो है हमारे बाजार को नकार कर यहां से दूर कपड़े लेना जरूरी समझता है या तो ऑनलाइन कपड़े लेता है जिसके कारण कपड़े के धंधे में बहुत से व्यापारियों को घाटे का सामना करना पड़ रहा है।

2) मार्केट में धंधा करने के लिए किराए का ज्यादा होना या फिक्स ना होना भी व्यापारियों को नया धंधा खड़ा करने में दिक्कतें पैदा कर रहा है।

3) धंधे को बाजार में कुछ लोगों ने सभी ने तो नहीं मैं कहूंगा लेकिन अपनी पर्सनल लड़ाई मान लिया है अगर कोई हमारी तरह का व्यापार कर रहा है या तो वह आपस में बात नहीं करते उसका सहयोग नहीं करते जिसके कारण ग्राहक का अनुभव खराब हो जाता है और ग्राहक लौट कर वापिस उस दुकान में नहीं आता है।

4) ऑनलाइन व्यापार में पंजीकृत ना होने की वजह से बहुत सा घाटा व्यापारियों को सहन करना पड़ रहा है।

5) कोऑपरेटिव सोसाइटीज का ना होना जिसके कारण अगर व्यापारियों को सामान इकट्ठा लेना हो तो कोई मंच नहीं है और अलग-अलग सामान लेने के कारण सामान महंगा पड़ता है और आगे भी महंगा बेचना पड़ता है जिसके कारण ग्राहक वापस नहीं आता और दूसरी मार्केट में जाना सही समझता है।

6) पार्किंग ना होने के कारण बाजार में ग्राहक नहीं रुकता है।

7) आवारा पशुओं का निरंतर बढ़ना भी बहुत बड़ा कारण है जिससे ग्राहकों का अनुभव भी खराब होता है।

8) कचरी की व्यवस्था का सही ना होना भी बहुत परेशान करने का कारण है।

9) खुद कुछ व्यापारियों द्वारा नियमों का पालन न करना भी एक मुख्य कारण है।

यह थे सभी मुख्य कारण जिनकी वजह से जोगिंदर नगर बाजार के व्यापारियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। अब मैं आप सभी को बताना चाहूंगा कि किस प्रकार से व्यापार मंडल इन सभी दिक्कतों को सुलझाने में मुख्य भूमिका निभा सकता है।

1) सबसे पहले व्यापार मंडल का गठन लोकतांत्रिक तरीके से किया जाए।

2) क्लस्टरिंग कर सभी तरह के व्यापारियों का अलग अलग विभाग बनाया जाए।

3) प्रोफेशनल सलाहकारों की एक कमेटी का गठन किया जाए जिसमें हर व्यापार का एक एक सलाहकार व्यापार मंडल के बाहर का हो।

4) व्यापार मंडल द्वारा किए गए फैसले बैठके पैसों का लेनदेन पूरी पारदर्शिता से हो।

5) किसी भी फैसले को करने से पहले व्यापारियों का मत जरूर जाने।

6) सभी विभागों सलाहकार कमेटी और व्यापारियों के बीच सही संवाद बिठाया जाए और समन्वय बनाने का प्रयास किया जाए।

7) लीगल कमेटी का भी गठन किया जाए जो व्यापार मंडल के सभी पंजीकृत व्यापारियों के लिए  कानूनन सहायता प्रधान करवा सके।

8) वर्किंग कचरे और आवारा पशुओं की समस्या का एक जुट होकर हल निकाला जाए।

9) खुद व्यापारियों को नियमों का पालन करने के लिए प्रेरित किया जाए व अभियान चलाए जाएं।

10) क्लस्टरिंग कर सभी व्यापारियों की कोऑपरेटिव सोसाइटी बनाई जाए ताकि ज्यादा सामान इकट्ठा खरीदकर कम रेट में ग्राहकों को बेच मार्केट को बचाया जा सके।

11) किराए को लेकर सभी मकान मालिकों के बीच संवाद बिठाकर व्यापारियों को कुछ राहत दी जाए।

12) व्यापारियों को प्रशिक्षण दिलाया जाए जिसमें कस्टमर हैंडलिंग और मार्केटिंग के बारे में सिखाया जाए।

13) व्यापार मंडल का 90 फ़ीसदी पैसा व्यापारियों को ट्रेन और सलाहकार कमेटी द्वारा लिए गए फैसलों के लिए खर्च किया जाए।

आप सभी को बताना चाहूंगा कि इन सभी उपायों में से अगर 50% भी जोगिंदर नगर व्यापार मंडल के अध्यक्ष करें तो पूरे जोगिंदर नगर बाजार में एक नई ऊर्जा भरी जा सकती है और मुझे आशा है कि जीतने के बाद अध्यक्ष जो भी होंगे इस पर अमन करने का प्रयास जरूर करेंगे यह कहीं ना कहीं हमारे व्यापारी भाइयों-बहनों के लिए फायदेमंद रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here