HomePolitical Analysisअर्की विधानसभा: क्या राष्ट्रीय देवभूमि पार्टी और निर्दलीय बिगाड सकते हैं भाजपा-कांग्रेस...

अर्की विधानसभा: क्या राष्ट्रीय देवभूमि पार्टी और निर्दलीय बिगाड सकते हैं भाजपा-कांग्रेस के समीकरण

आर पी जोशी।। चुनाव की तैयारियों में पहले से ही सभी पार्टियों के नेता लगे हुए थे, परंतु अचानक चुनाव की तारीख़ घोषित होते ही सरगर्मियां एक दम बढ़ गई और कुछ पार्टी के नेता गांडीव लेकर विधानसभा क्षेत्र (गाँव) की ओर चल दिये। कुछ चुनाव की तारीख़ देख कर दंग से रह गए।

अर्की विधानसभा सीट से कई भाजपा और कांग्रेस के नेता अपने को टिकट के प्रबल दावेदार मान रहे हैं। लेकिन ये तो समय ही बतायेगा के किस के भाग्य में राजयोग है। यदि पार्टी हाईकमान ने जल्दबाज़ी या भाई-भतीजाबाद के कारण टिकट आबंटित किया तो परिणाम का नतीजा क्या होगा ये तो टिकट मिलते ही पता चल जाएगा कि जीत किस खाते में जाएगी।

वर्तमान में अर्की से कांग्रेस के विधायक संजय अवस्थी हैं। इससे पहले स्वर्गीय राजा वीरभद्र सिंह अर्की विधानसभा सीट से विधायक थे, जो हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे हैं। इस बार कांग्रेस अर्की विधानसभा क्षेत्र में सीट बरकरार रख पाती हैं या नहीं ये तो समय ही तय करेगा।

भाजपा-कांग्रेस का गणित बिगाड़ सकते हैं राष्ट्रीय देवभूमि पार्टी और निर्दलीय नेता राजेंद्र ठाकुर

राजेंद्र ठाकुर जो राजा वीरभद्र सिंह के राइट हैंड थे जिन्हें पिछली बार कांग्रेस ने टिकट नहीं दिया था जिस कारण राजेंद्र ठाकुर ने कांग्रेस का दामन छोड़ दिया था। राजेंद्र ठाकुर की विधानसभा क्षेत्र की जनता में काफ़ी अच्छी पकड़ है। सबसे बड़ी बात वो सबको एक समान दृष्टि से देखते हैं और सब के काम करते हैं।

पिछले काफ़ी महीनों से राजेंद्र ठाकुर विधानसभा में हर व्यक्ति से निजी तौर पर मिल रहे हैं और इन्होंने विधानसभा क्षेत्र की समस्त पंचायतों से तक़रीबन 100 % महिलाओं को पावंटा साहिब, हरिद्वार, ऋषिकेश, रेणुका जी की यात्रा निःशुल्क करवाई है। जनहित के कार्यों के लिए रात दिन लगे रहते हैं। राजेंद्र ठाकुर दे सकते हैं अर्की विधानसभा क्षेत्र को नई उड़ान।

भाजपा में गोविंद राम शर्मा को या रत्न सिंह पाल को टिकट दिया जाता है तो चुनाव जीतना मुश्किल हो सकता है। परंतु इस बार भाजपा में अंदर खाते खुलकर द्वंव चला हुआ है और तीसरे दावेदार के तौर पर बृजमोहन शर्मा ने भी विकत में अपनी दावेदारी ठोंक रखी है। अब देखना है कि भाजपा हाई कमान किस को टिकट देती हैं। पिछली गलती को न दोहराते हुए सही निर्णय लेना होगा भाजपा हाई कमान को। एक सही निर्णय और दूर दृष्टि गोचरता ही अर्की से भाजपा को जीत दिला सकती है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments