अगर 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन पहुंच रहा है तो भारत भुखमरी में 101 वें स्थान पर क्यों है?

0
15

नई दिल्ली।। केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार भारत को विकासशील देश बनाने के बड़े-बड़े दावे करती आई है। लेकिन बीते कुछ सालों से भारत विकास की बजाए गरीबी, बेरोजगारी भुखमरी की तरफ अग्रसर हो रहा है।

भाजपा सरकार के शासनकाल में लोगों को रोजगार दिए जाने की जगह बेरोजगारी बढ़ाई जा रही है। जबकि साल 2014 में प्रधानमंत्री मोदी ने देश से गरीबी, बेरोजगारी और भुखमरी खत्म करने का वादा किया था। इसी बीच खबर सामने आई है कि ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2021 में भारत पहले के मुकाबले और भी ज्यादा पिछड़ गया है।

साल 2020 में जहां ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत का 94वां स्थान था। वहीं अब भारत 101वें स्थान पर आ पहुंचा है। जो कि देश के लिए भी चिंता का विषय बन गया है। हैरानी जनक बात यह है कि भारत खुद को एक विकासशील और अमीर देश का नाम दे रहा है। जबकि भारत के पड़ोसी मुल्क नेपाल, पाकिस्तान और बांग्लादेश ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2021 में भारत से बेहतर स्थान पर है।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स रिपोर्ट ने भारत में भुखमरी के बढ़ रहे इस तारीख को खतरनाक करार दिया है। इस मामले में एक बार फिर मोदी सरकार विपक्षी दलों के निशाने पर आ गई है। भारत को भुखमरी के कगार पर पहुंचाने के लिए कांग्रेस मोदी सरकार पर सवाल खड़े कर रही है।

इस कड़ी में कांग्रेस नेता रोहन गुप्ता ने मोदी सरकार को घेरते हुए ट्वीट किया है उन्होंने लिखा है कि अगर 80 करोड़ लोगों तक मुफ्त अन्न पहुंचा होता तो भारत भुखमरी के मामले में 101वें स्थान पर नही पहुँचता।

इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने भी इस मुद्दे पर पीएम मोदी की चुटकी लेते हुए उन्हें बधाई दी थी।

आपको बता दें कि ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2021 में भारत के निचले पायदान पर आने पर मोदी सरकार की तरफ से सफाई दी गई है। सरकार द्वारा दावा किया जा रहा है कि भुखमरी के आकलन के लिए जो प्रक्रिया अपनाई जा रही है वह अवैज्ञानिक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here