HomePolitical Analysisस्वर्णों की अनदेखी बीजेपी को पड़ी भारी, हार के अंतर से ज़्यादा...

स्वर्णों की अनदेखी बीजेपी को पड़ी भारी, हार के अंतर से ज़्यादा वोट ले गया NOTA

शिमला: मंडी लोकसभा सीट पर भाजपा-कांग्रेस के जीत के अंतर से अधिक वोट नोटा को पड़े हैं। यानी यदि नोटा के वोट भाजपा को मिलते तो समीकरण बदल सकता था। सवर्ण संगठनों ने नोटा दबाने की अपील की थी।

बता दें कि मंडी सीट पर नोटा के पक्ष में 12,626 वोट गिरे हैं। जबकि दोनों प्रत्याशी के बीच जीत का अंतर 8766 वोट का है। नोटा को हार जीत के मार्जिन से 3860 अधिक वोट मिले हैं।

नोटा के पक्ष में इतना अधिक मतदान साफ करता है कि जयराम ठाकुर से उनके क्षेत्र के लोगों में खासी नाराजगी है। चुनाव प्रचार के दौरान कोटा नहीं तो नोटा का मुहिम भी सोशल मीडिया और ग्राउंड पर चल रहा था।

ग़ौरतलब है कि कोटा नहीं तो नोटा का नारा सवर्ण आयोग के गठन को लेकर चल रहा था। सामान्य वर्ग संयुक्त मंच हिमाचल प्रदेश ने चुनाव के दौरान ऐलान भी किया था कि उनकी मांग की अनदेखी की गई तो सामान्य वर्ग उपचुनाव में नोटा का प्रयोग करेगा।

चुनाव परिणाम जिस तरह से आए हैं उसका आकलन किया जाए तो भाजपा के लिए हार के कई वजह रहे हैं कि जिनमें से एक सवर्णों की अनदेखी भी है। यदि नोटा से बर्बाद हुए वोट भाजपा को मिले होते तो दीवाली कांग्रेस नहीं मना रही होती।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments