हिमाचल: दो साल पहले जारी हुए थे स्कूल भवन गिराने के आदेश, अभी भी चल रहीं कक्षाएं

0
25

सोलन: नालागढ़ के दूरदराज पहाडी क्षेत्र के परगना मलौण कि ग्राम पंचायत भियुँखरी के अंतर्गत राजकीय उच्च विद्यालय की बिल्डिंग की हालत इतनी खस्ता है कि वहां कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। इस स्कूल में तकरीबन 97 बच्चे रोजाना पढ़ने आते हैं परंतु सारा दिन डर के साए में पढ़ने को मजबूर हैं।

बात करें तो 2018-2019 में डीसी सोलन द्वारा इस स्कूल की बिल्डिंग को गिराने के आदेश भी जारी किए गए थे, परंतु अभी तक कोई भी उचित कार्यवाही नहीं हुई है और न ही किसी प्रकार का फंड इस स्कूल को मिला है। स्कूल की हालत ऐसी हो चुकी है कि कभी भी उसकी छत गिर सकती है, परंतु प्रशासन पर इसका कोई भी असर देखने को नहीं मिल रहा है।

स्कूल के मुख्याध्यापक के अनुसार इस स्कूल की एस्टीमेट फाइल डीसी महोदय को भेजी जा चुकी है, परंतु इन दो वर्षों में अभी तक किसी प्रकार का फंड स्कूल में नहीं आया है। स्कूल द्वारा सारी कागजी कार्यवाही की जा चुकी है। उनका कहना है कि यहां आसपास कोई दूसरी बिल्डिंग ना होने की वजह से इसी बिल्डिंग में बच्चों को पढ़ाने को मजबूर हैं। अब देखना यह है कि प्रशासन की नींद कब खुलती है, क्योंकि 97 बच्चों की जान दांव पर लगी है।

इस बारे पंचायत समिति सदस्य सौर योगेश शर्मा ने कहा कि हमारा क्षेत्र आज भी सरकार की अनदेखी और असुविधाओं का दंश झेल रहा है। चाहे कोई भी सरकार हो यहां पर सड़कों की हालत देख लो, ठेकेदार अधूरा काम छोडकर चला जाता है, लेकिन विभाग उसके पैसे तक नहीं रोक सकता। यहां चाहे आप शिक्षा, स्वास्थ्य, पानी, बिजली, सड़कें हर प्रकार की मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। नेता आते हैं, जाते हैं, वादे सब करते हैं, लेकिन काम करके कोई राजी नहीं। उन्होंने बताया कि इस बारे में एसडीएम साहब से बात हुई है, उन्होंने इस मामले में तुरंत कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

वहीं, एसडीएम नालागढ़ महेश पाल गुर्जर ने कहा कि मामला उनके संज्ञान में आया है और उन्होंने इस बारे में मुख्याध्यापक और पंचायत प्रधान को दूसरी बिल्डिंग देखकर बच्चों को वहां पर स्थानांतरित करने को कहा हैम उन्होंने कहा कि जल्द ही फंड मुहैया करवाकर स्कूल का कार्य शुरू करवा दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here