सरकाघाट का राहुल भी पहुँचा घर, पिता बोले – यह मेरे जीवन का सबसे बड़ा उपहार

0
19

मंडी।। अफगानिस्तान में फंसे हिमाचल के दूसरे बेटे राहुल बराड़ी ने अपने पैतृक स्थान सरकाघाट पहुंचने के बाद राहत की सांस ली। तालिबान द्वारा सत्ता पर कब्जा करने के बाद वह अफगानिस्तान में फंस गया था।

यह भी पढ़ें : Janmashtami 2021: ये राशियां हैं कृष्ण भगवान को बेहद प्रिय, इन पर होती है विशेष कृपा, क्या आप भी हैं शामिल

राहुल अफगानिस्तान में एक अमेरिकी कंपनी में सुरक्षा गार्ड के तौर पर कार्यरत था। तालिबान के सत्ता में आने के बाद से ही वह अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित थे। लोगों की पीड़ा को याद करते हुए राहुल ने कहा कि सड़कों पर अराजक दृश्य थे और लोग अफगानिस्तान से बाहर निकलने के लिए संघर्ष करते नजर आए।

यह भी पढ़ें : Janmashtami 2021: चाहते हैं बनी रहे श्री कृष्ण की आप पर खास कृपा, तो जन्माष्टमी के दिन जरूर करें ये काम

अपनी आपबीती के बारे में बताते हुए राहुल ने कहा कि उन्हें अन्य भारतीयों के साथ 10 वाहनों में हवाई अड्डे तक पहुंचाया गया, जिन्हें तालिबान सुरक्षा गार्डों द्वारा सुरक्षित रखा गया था। हमें तालिबान लड़ाकों के हाथों मौत का डर था, लेकिन उन्होंने हमें नुकसान नहीं पहुंचाया। पांच दिनों के संघर्ष के बाद, हमें हवाई अड्डे पर पहुँचाया गया और हमने राहत की सांस ली।

यह भी पढ़ें : क्लर्क भर्ती: परीक्षा देने पहुंचे तो पता चला बदल गया है सेंटर

राहुल ने कहा कि अमेरिकी कंपनी ने हमें दुबई पहुंचने में मदद की, जहां से हम लंदन पहुंचे। लंदन से मैं नई दिल्ली आया। राहुल ने कहा, “मैं अपने माता-पिता, पत्नी और बच्चों से मिलकर खुश हूं, जो मेरी सुरक्षित भारत वापसी को लेकर चिंतित थे।” राहुल के परिवार और रिश्तेदारों ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया और उनकी सुरक्षित वापसी के लिए राज्य और केंद्र सरकारों को धन्यवाद दिया।

यह भी पढ़ें : कुल्लू : प्रदर्शनी मैदान में शरारती तत्वों ने तोड़ा “आई लव कुल्लू” सेल्फी प्वाइंट

राहुल के पिता बलवंत बराड़ी ने कहा कि हम सीएम जय राम ठाकुर और केंद्र सरकार के शुक्रगुजार हैं कि मेरा बेटा सुरक्षित घर लौट आया है। यह मेरे जीवन का सबसे बड़ा उपहार है।

यह भी पढ़ें : Post Office से सुकन्या समृद्धि योजना में जमा लाखों रुपये हुए गायब, जानिए क्या है पूरा मामला?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here