हिमाचल: सड़क न बनने पर फूटा ग्रामीणों का गुस्सा, बोले- इस बार वोट नहीं डालेंगे

0
379

कांगड़ा: कृषि मंत्री चंद्र कुमार के गृह विधानसभा क्षेत्र जवाली के एक छोर पर चंबा जिला की सीमा के साथ सटे दुर्गम गांव बडेड के 70 परिवार सड़क और मतदान केंद्र की सुविधा से वंचित हैं। इसी वजह से ग्रामीणों से लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने का मन बना लिया है।

बडेड गांव के प्रीतम सिंह राणा, रविंद्र, चैन सिंह, उत्तम सिंह, प्रेम सिंह, जीवन कुमार, हंस राज, रविंद्र, अशोक, सुखदेव, शाम सुंदर और सुमन कुमार आदि ने कहा कि सुविधाएं न मिलने के चलते उन्होंने फैसला लिया है कि वे लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करेंगे। जब तक गांव का रोड बडेड से कोटला तक पक्का नहीं होगा और गांव में पोलिंग बूथ स्थापित नहीं होगा कोई भी गांववासी मतदान नहीं करेगा।

ग्रामीणों ने कांग्रेस और भाजपा पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि आजादी के 75 वर्ष बाद भी पक्की सड़क न होने के चलते बीमार और प्रसव पीड़ा से कराहती महिलाओं को चारपाई पर या पीठ पर उठाकर उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाना पड़ता है।

लोक निर्माण विभाग कोटला सहायक अभियंता राजेश कुमार ने बताया कि फोरलेन परियोजना के कारण कोटला बडेड सड़क बाधित है, इसका रखरखाव फोरलेन परियोजना ने ही करना है।

सहायक चुनाव अधिकारी और उपमंडल अधिकारी जवाली विचित्र सिंह ठाकुर ने कहा कि बडेड के लोगों ने अलग पोलिंग बूथ की मांग देरी से की है, जो कि चुनाव अधिसूचना जारी हो जाने के कारण अभी संभव नहीं है, अगली बार के चुनाव में ध्यान रखा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here