हिमाचल: कविता कंटू की संदिग्ध मौत, कमरे से नोट मिलने के बाद पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ये खुलासा

0
18

शिमला: जिला परिषद सदस्य कविता कंटू की मौत कैसे हुई है, इसे लेकर रहस्य बना हुआ है। कविता ने आत्महत्या की है या उसकी हत्या हुई है, यह गुत्थी नहीं सुलझ पाई है। प्रथम दृष्टतया मौत का मामला संदिग्ध लग रहा है, क्योंकि घटनास्थल पर पाया गया है कि फंदे पर लटक रही युवती के पैर जमीन को छू रहे थे।

समरहिल के जंगल में फंदे पर लटकी मिली जिला परिषद सदस्य 26 वर्षीय कविता कंटू की मौत की गुत्थी सुलझने के बजाय और उलझती जा रही है। एक के बाद एक ट्विस्ट सामने आ रहे हैं। पहले कविता के कमरे से एक नोट में ‘सॉरी टू एवरीवन, लव यू डैड’ लिखा बरामद हुआ। वहीं, अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुए खुलासों ने मौत की गुत्थी को और उलझा दिया है।

सूत्रों के मुताबिक, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आया है कि कविता की मौेत गर्दन की हड्डी टूटने से हुई है। हालांकि यह हत्या थी या हादसा यह स्पष्ट नहीं हो पाया। यह भी स्पष्ट नहीं हो पा रहा है कि युवती ने फांसी लगाई या फांसी पर लटकाया गया। विशेषज्ञों की कमेटी पोस्टमार्टम रिपोर्ट का अध्ययन करेगी।

विशेषज्ञों के अनुसार फांसी पर लटकने से गर्दन की पीछे की हड्डी और नसें काफी खिंच जाती हैं और कई बार टूट भी जाती हैं। वहीं, हत्या में भी यही बात लागू हो सकती है। लिहाजा मौेत का कारण साफ नहीं हो पाया है।

पुलिस और फोरेंसिक विशेषज्ञ मामले की गहनता से पड़ताल कर रही है और सभी पहलुओं पर गौर किया जा रहा है। जांच में जुटी पुलिस ने कविता के किराए के कमरे से एक चिट भी बरामद की है, जिसमें अंग्रेजी में “Sorry to Everyone, Love you Dad” लिखा गया था। इसके अलावा मृतका के मोबाइल को भी खंगाला जा रहा है। मोबाइल घटनास्थल पर शव के पास गिरा हुआ था। पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही थी कि मृतका की आखिरी बात किस शख्स से हुई थी।

चौंकाने वाली बात यह है कि कविता के पैर जमीन पर टिके थे। इससे आशंका जताई जा रही है कि उसकी हत्या कर शव को फंदे से लटकाया गया है। बहरहाल पुलिस इस मामले में कुछ भी बोलने से परहेज कर रही है।

कविता रामपुर के झाकड़ी वार्ड से इसी साल जिला परिषद निर्वाचित हुई थी। वह प्रदेश विश्वविद्यालय की मेधावी छात्रा रही है। वह समरहिल से सटे सांगटी में किराए के कमरे में रह रही थी। कविता के कमरे के बगल में रहने वाली उसकी दो करीबी सहेलियों ने बताया कि कविता हंसमुख स्वभाव की थी और वह किसी तरह के तनाव में नहीं थी।

उधर, इस मामले से अब प्रदेश का सियासी पारा भी गरमाने लगा है। विपक्षी दल कांग्रेस ने इस घटना के पीछे साजिश होने की आशंका जताई है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने इस दुखद घटना पर चिंता व्यक्त करते हुए सरकार से इसकी जांच करवाने की मांग की है।

उन्होंने कहा कि यह बहुत ही दुःखद है कि एक जन प्रतिनिधि को कथित तौर पर आत्महत्या करनी पड़ी हो। यह कोई गहरी साजिश भी हो सकती है, लिहाजा इस मामलें की निष्पक्षता से जांच होनी चाहिए, जिससे पीड़ित परिवार को न्याय मिल सके और दोषी को कड़ी सजा।

हिमाचल: 26 वर्षीय जिला परिषद कविता कंटू का जंगल में फंदे से लटका मिला शव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here