दो घंटे पैदल चलकर पहुंचता था स्कूल, अब बना टॉपर- पिता करते हैं दर्जी का काम

0
27314

चंबा: समय पर स्कूल पहुंचे इसलिए चंबा जिला का रहने वाला चिंतन सुबह 7 बजे पैदल घर से स्कूल के लिए निकलता था। शाम को वापस घर पर 6 बजे पहुंचता था। अब उसकी मेहनत रंग लाई है। जिला चंबा के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सिल्लाघ्राट से जमा दो की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले चिंतन शर्मा ने कला संकाय की मेरिट सूची में चौथा स्थान हासिल किया है।

चिंतन के पिता दर्जी हैं और वह इसी व्यवसाय से परिवार का पालन-पोषण करते है। बेटे की इस उपलब्धि पर पिता रत्तो राम बेहद खुश हैं। बेटे पर गर्व महसूस कर रहे हैं। माता महेशो बाकी खुशी का भी कोई ठिकाना नहीं है। रिश्तेदार बधाई देने के लिए घर पहुँच रहे हैं। वहीं, चिंतन की इस कामयाबी से स्कूल प्रशासन भी खुश हैं।

चिंतन ने बारहवीं की पढ़ाई के लिए काफी सफर पैदल तय किया है। वह रोजाना दो घंटे की चढ़ाई चढ़कर स्कूल पहुंचते थे। समय पर स्कूल पहुंचने के लिए घर से सुबह साढ़े सात बजे निकलना पड़ता था। शाम को वापस घर छह बजे पहुंचते थे। सर्दियों में घर पहुंचते अंधेरा हो जाता था।

चिंतन ग्राम पंचायत चंबी के गांव अबोहर के रहने वाले हैं। कला संकाय की मेरिट में चौथा स्थान हासिल करने वाले सिल्लाघ्राट के छात्र चिंतन शर्मा ने कहा कि वे अध्यापक बनना चाहते हैं। कहा कि भाई से उन्हें समय-समय पर प्रेरणा मिलती रही। उन्होंने अपने कामयाबी का श्रेय अपने अध्यापकों, माता पिता और बुजुर्गों को दिया है। वे अध्यापक बनकर शिक्षा स्तर को मजबूत करेंगे। स्कूल प्रधानाचार्य भूपिंद्र सिंह ने चिंतन को बधाई दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here