न इंसाफ की लड़ाई बंद होगी, न कल का कार्यक्रम रद्द होगा: कुशाल भारद्वाज

0
17

मंडी: जोगिंद्रनगर के बहुचर्चित ज्योति मौत मामले में डीजीपी ने सीआईडी जांच के आदेश दे दिए हैं। बता दें 14 सितम्बर को जोगिंद्रनगर में कुशाल भारद्वाज ने ज्योति को न्याय दिलाने के लिए सामूहिक उपवास का कार्यक्रम रखा था। लेकिन 13 सितंबर को ही मामले की जांच सीआईडी को सौंपी जा चुकी है।

जब हमने कुशाल भारद्वाज से बात की तो उन्होंने साफ कह दिया कि इंसाफ की लड़ाई बंद नहीं होगी, न कल का पूर्व निर्धारित कार्यक्रम रद्द होगा। उन्होंने कहा कि वे आंदोलन का स्वरूप बदल रहे हैं और सामूहिक उपवास न करके शोक प्रस्ताव पारित कर ज्योति की याद में दो मिनट का मौन रखकर केस की जांच तेज करने बारे तथा पूरा सच सामने लाने के लिए जनसमूह के समक्ष प्रस्ताव रख कर पारित करेंगे।

उन्होंने कहा कि न तो ट्रैफिक रोकेंगे और न ही थाने के अंदर घुसेंगे, लेकिन जनता को लामबंद कर ज्योति को न्याय दिलाने के लिए गांधीवादी तरीके से अपना आंदोलन जारी रखेंगे।

गौरतलब है कि 26 अगस्त को ज्योति केस की सच्चाई सामने लाने तथा ज्योति को ढूंढने के लिए जब उनके नेतृत्व में हजारों लोगों ने आंदोलन किया था, तो मुख्यमंत्री व पुलिस महानिदेशक को लिखे पत्र में उन्होंने यही मांग की थी कि यदि पुलिस इस पूरे केस का सच सामने लाने में असमर्थ रहती है तो फिर इस केस की जांच का जिम्मा किसी अन्य जांच ऐजेन्सी को सौंपा जाये। अब उनके कल के आह्वान से एक दिन पहले ही केस की जांच सीआईडी को सौंप दी गई है।

बता दें कुशाल भारद्वाज हमेशा ही संगठित व अनुशासित संघर्ष के लिए जाने जाते रहे हैं। इस साल पीने के पानी के मुद्दे पर भी उन्होंने बड़ा संघर्ष लड़ा था व जीत हासिल की थी। इसके अलावा पुल व सड़क के मुद्दे पर भी जनता को आंदोलन में उतार कर लोक निर्माण विभाग को सक्रिय किया था। कहा तो यह भी जाता है कि उनके संघर्षों के बाद ही मंत्रियों के कई दौरे जोगिन्दर नगर में रखे गये और विधायक ने भी पंचायत वार जन सभाएं शुरू की हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here