हिमाचल: पशुपालन विभाग ने पशुपालकों को बांट दी वायरस से संक्रमित बकरियां

0
16

ऊना: पशुपालन विभाग व प्रदेश सरकार ने पशुपालकों को पीपीआर वायरस से संक्रमित बकरियां ही वितरित कर दी। मामला ऊना जिले के बंगाणा क्षेत्र का है। विभाग द्वारा बांटी गई इन संक्रमित बकरियों के संक्रमण में पशुपालकों के अन्य मवेशी भी चपेट में आ रहे हैं। इन बकरियों के संक्रमण से पशुपालकों द्वारा पहले पाली गई बकरिया भी संक्रमण में आ गई है और दर्जनों बकरियों की मृत्यु हो गई है।

सूत्रों के मुताबिक सोलहसिंगी की धार के गांवों के अलावा लठियाणी व कोहडरा, बुधान आदि कामों में पशुपालकों की सैकड़ों बकरी की मृत्यु हो गई है। पीपीआर वायरस से संक्रमित बकरियों के मरने के कारण पशुपालकों को लाखों रुपए की राशि का नुकसान हो गया है।

पशुपालकों में रविंद्र कुमार, रघुनाथदत्ता ने बताया कि उस दिन को कोस रहे हैं जब विभाग ने उन्हें 11 बकरियां संक्रमित दे दी। इन बकरियों के संक्रमित होने के कारण उनकी अन्य बकरियां भी मौत के मुंह में चली गई। सवाल यह उठता है कि क्या विभाग ने बकरियों को वितरित करने से पहले उनकी जांच नहीं करवाई होगी।

कई पशुपालकों ने नाम ना बताने की शर्त पर बताया कि विभाग द्वारा पोल्ट्री फार्म से ही संक्रमित बकरियां पशुपालकों को बांट दी गई। बताया जा रहा है कि पशुपालन विभाग की टीम द्वारा बीमार पड़ी इन बकरियों के ब्लड के नमूने जांच के लिए धर्मशाला लैब के लिए भेजे तो पता चला कि बढ़ती गई बकरियों में पीपीआर संक्रमण है।

क्षेत्र के लोगों में पशुपालकों द्वारा विभाग की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगाए जा रहे हैं। इससे पहले भी विभाग द्वारा वितरित की गई पशुपालन बकरी योजना सवालों के घेरे में आ गई थी। सरकार द्वारा निर्धारित की गई कीमत से 1 वर्ष बाद अतिरिक्त राशि पशुपालकों से वसूलने के आदेश दे दिए गए थे।

गौरतलब है कि विभाग द्वारा पशुपालकों को बकरियां वितरित करने के 24 घंटे बाद ही इन बकरियों के मरने का क्रम आरंभ हो गया था। क्षेत्र के कई पशुपालकों ने विभाग व सरकार द्वारा बकरी वितरण योजना पर सवालिया निशान लगाए थे।

क्षेत्र के पशुपालकों में डर सता रहा है कि अगर समय रहते इस संक्रमण पर काबू नहीं पाया गया तो उन्हें और भी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। क्षेत्र के पशुपालकों ने पशुपालन विभाग व प्रदेश सरकार से संक्रमण से मरने बाली सभी बकरियों के मुआवजे की मांग की है।

इस संबंध में पशुपालन विभाग के उपनिदेशक जय सिंह सेन का कहना है कि पीपीआर वायरस के संक्रमण से 44 बकरियों की मृत्यु हो गई है। विभाग की टीम द्वारा संक्रमण पर नियंत्रण पाया जा रहा है। जिन पशुपालकों को नुकसान हुआ है उन्हें मुआवजा विभाग द्वारा दिलवाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here